अन्नपूर्णा भण्डार योजना 5000 अन्न्पूर्णा भण्डार का लक्ष्य अर्जित

मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने प्रदेश में प्रथम चरण में लक्षित 5000 अन्नपूर्णा भण्डार का लक्ष्य अर्जित करनें पर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग को बधाई दी हैं। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे की पहल पर पूरे देश में 14519712_1629190704045477_1754295462231506877_nएक मात्र राजस्थान राज्य में नवाचार के रूप में सार्वजनिक एवं निजी सहभागिता के अन्र्तगत सार्वजनिक वितरण प्रणाली के आधुनिकीकरण की अनूठी व बेहतरीन अन्नपूर्णा भण्डार योजना  लागू कर एक नये दौर की शुरुआत की थी।

योजनान्तर्गत 5000 उचित मूल्य दुकानों पर ‘‘अन्न्पूर्णा भण्डार’’ ने रुरल माल के रुप में अनोखी पहचान बनाई हैंं। प्रमुख शासन सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने 5000 अन्नपूर्णा भण्डार का लक्ष्य हासिल करने पर खुशी व्यक्त की हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे ने जयपुर जिले के भम्भौरी गांव से 31 अक्टूबर 2015 को आमजन को उच्च गुणवत्ता की मल्टी ब्राण्ड उपभोक्ता वस्तुएं वाजिब दरों (एमआरपी से कम) पर उचित मूल्य की दुकान के माध्यम से उपलब्ध कराने हेतु अन्नपूर्णा भण्डार योजना की शुरूआत कर एक नई मिसाल कायम की थी।

राज्य सरकार की पहल पर खोले गए अन्नपूर्णा भंडार एक तरफ आमजन को उचित मूल्य पर गुणवत्ता से भरपूर सामग्री मुहैया करा रहे हैं, वहीं भंडार संचालकों के लिए एक नियमित व बेहतर आय का ज़रिया बन गए हैं।

उन्होंने बताया कि प्रदेश की पारंपरिक राशन की दुकानों को नया स्वरुप देनें वाली अन्नपूर्णा भण्डार अभिनव योजना की शोहरत पूरे देश में फैल चुकी है। भारत सरकार के साथ ही दिल्ली,हरियाणा,छतीसगढ,मध्यप्रदेश सहित कई राज्यों के खाद्य मंत्री एवं प्रमुख सचिवों ने सफलता के सोपान रचने वाली इस ऎतिहासिक योजना की तारीफ की हैं और सर्वाधिक चर्चा वाली इस योजना को उनके यहां लागू करने के लिए कई बार प्रदेश का दौरा कर इस योजना के संबंध में जानकारी जुटाने का प्रयास किया है।

डॉ. अग्रवाल ने बताया कि इस योजना का उद्देश्य सामान्य उपभोक्ता के जीवन को उन्नत एंव खुशहाल करना एवं उचित मूल्य की दुकानों के डीलर्स की आय में अतिरिक्त वृद्वि कर उन्हे उद्यमी बनाना है। उन्होंने कहा कि हमारा यह प्रयास देश का सबसे बड़ा उद्यमिता अभियान के रुप में सफल साबित हुआ हैं। उल्लेखनीय है कि शहरों, कस्बों और गांवो में रहनें वाले आम लोगों एवं राशन डीलर्स के लिए यह योजना बहुत फायदेमंद साबित हुई हैं। प्रदेश के राशन डीलर्स अन्नपूर्णा भण्डार चलाने में गहरी रूची दिखा रहें हैं क्योंकि योजना का आधार बहुत मजबूत है और उचित मूल्य दुकानदार इस योजना के माध्यम से नवाचार की ओर बढ रहे हैं।